यात्री को विमान से उतारने पर 10 लाख जुर्माना

एयरलाइन कंपनी स्पाइजेट को एक बीमार महिला यात्री को विमान से उतारना काफी महंगा पड़ा। सुप्रीम कोर्ट ने कंपनी को 10 spicejet_airlinesलाख रुपए हर्जाना भरने का आदेश दिया है। पीडि़त महिला सेरेब्रल पाल्सी से प्रभावित है। अदालत ने कहा कि यात्री जीजी घोष को जिस तरह विमान से उतारा गया, उसमें संवेदनहीनता नजर आती है। दो जजों की खंडपीठ ने कहा, घोष को जिस तरह नियम विरुद्ध विमान से उतरने के लिए मजबूर किया गया, उससे उन्हें मानसिक और शारीरिक आघात पहुंचा। इसलिए हम स्पाइजेट को 10 लाख रुपए हर्जाना देने का आदेश देते हैं।

2012 की घटना
46 वर्षीय घोष कोलकाता के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ सेरेब्रल पाल्सी में शिक्षिका हैं। 2012 में जब वे कोलकाता से गोवा जा रही थीं, तब स्पाइसजेट के एक विमान के पायलट ने यह कहते हुए उन्हें उतार दिया था कि वे उड़ान भरने में सक्षम नहीं हैं। हालांकि कंपनी ने उसी वक्त बयान जारी कर माफी मांग ली थी। अदालत ने Spicejet को दो माह में हर्जाना देने को कहा है।

Leave a Reply