Jethmalani के बारे में यह जानते हैं?

भाजपा सांसद रहे राम जेठमलानी अब भाजपा की ही मुश्किलें बढ़ाने जा रहे हैं। जेठमलानी वित्तमंत्री अरुण जेटली की ओर से दायर मानहनि के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पैरवी करेंगे। कम ही लोग जानते होंगे कि राम जेठमलानी ने महज 17 साल की उम्र में कानून की ramडिग्री हासिल कर ली थी। उनकी गिनती देश के सबसे महंगे वकीलों में होती है। हालांकि ये बात अलग है कि जेठमलानी कहते हैं कि वे 90 फीसदी केस बिना फीस के लड़ते हैं। हवाला मामले में लालकृष्ण आडवाणी की पैरवी जेठमलानी ने ही की थी। वैसे, जेठमलानी 1959 में केएम नानावटी बनाम महाराष्ट्र सरकार मामले से चर्चा में आए। इसके बाद तो उन्होंने एक के बाद एक कई ऐसे केस लड़े, जिन्होंने उन्हें हरदम सुर्खियों में रखा। राम जेठमलानी ने राजीव गांधी के हत्यारों का मद्रास हाईकोर्ट में बचाव किया था। स्टॉक मार्केट के सबसे बड़े घोटालेबाजों में शामिल हर्षद मेहता के वकील भी वही थी। उन्होंने केतन पारेख के लिए भी केस लड़ा। इतना ही नहीं  jethmalani  अंडरवल्र्ड डॉन हाजी मस्तान की भी पैरवी की, जिसके लिए उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।

बागी तेवर
देश भर में चर्चा का विषय रहे जेसिका लाल हत्याकांड में जेठमलानी अभियुक्त मनु शर्मा के वकील थे। उन्होंने सेहराबुद्दीन फर्जी मुठभेड़ मामले में वर्तमान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के तरफ से केस लड़ा। कहा जाता है कि इसके बाद से उनके और भाजपा के बीच करीबी बढ़ती गई। भाजपा ने जेठमलानी को बिहार से राज्यसभा पहुंचाया, लेकिन बागी तेवरों के चलते पार्टी ज्यादा वक्त तक उन्हें अपने साथ नहीं रख सकी। उन्होंने कई मौकों पर भाजपा शीर्ष नेताओं के उलट बयान दिए, जिसके बाद उन्हें भाजपा ने निष्कासित कर दिया गया।

आसाराम की पैरवी
जेठमलानी बलात्कार मामले में जेल की हवा खा रहे आसाराम बापू की भी पैरवी कर चुके हैं। आय से अधिक संपत्ति मामले में उन्होंने अदालत में जयललिता का पक्ष रखा। साथ ही खनन मामले में कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के भी वकील रहे।

गुस्से के तेज
राम जेठमलानी गुस्से के तेज माने जाते हैं। जो बात उन्हें पसंद नहीं आती, उस पर प्रतिक्रिया देने में वे एक सेकेंड भी नहीं लगाते। एक बार पत्रकार दीपक चौरसिया को भी जेठमलानी के गुस्से का सामना करना पड़ा था। इंटरव्यू के दौरान जेठमलानी किसी सवाल पर इतने भडक़ गए कि उन्होंने चौरसिया को तुरंत अपने घर से बाहर निकलने का फरमान सुना डाला। उन्होंने इस बात की परवाह भी नहीं कि उनका गुस्सा कैमरा रकॉर्ड कर रहा है। मीडिया ने इस मामले को काफी उछाला, लेकिन जेठमलानी पर उसका कोई असर नहीं हुआ।

Leave a Reply