तेजस की इन खूबियों को जानते हैं?

देश की पहली फुल एसी सेमी हाईस्पीड ट्रेन तेजस को अगर पटरी पर दौड़ता विमान कहा जाए तो गलत नहीं होगा. इस ट्रेन में ऐसी कई खासियतें हैं, जो आपको विमान में बैठने का अनुभव प्रदान करती हैं. मुंबई और गोवा के बीच चलने वाली इस ट्रेन में एलईडी टीवी से लेकर चाय-कॉफ़ी वेंडिंग मशीन जैसी तमाम सुविधाएं हैं.

सुविधाएं ज्यादा हैं, तो जायज है किराया भी ज्यादा होगा. तेजस में सवारी के लिए आपको शताब्दी के मुकाबले 20 फीसदी अधिक किराया चुकाना होगा. मुंबई से करमाली के लिए एसी चेयर कार का किराया 1,190 रुपए है. जबकि मुंबई से रत्नागिरी का किराया 835 रुपए. एग्जीक्यूटिव क्लास का किराया इससे अधिक रहेगा.

यह ट्रेन सप्ताह में पांच दिन चलेगी. इसकी तरह मानसून सीजन में 10 जून से 31 जून तक यह सोमवार, बुधवार और शनिवार को ही चलेगी. तेजस के डिब्बे 200 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार से दौड़ने में सक्षम हैं. हालांकि फिलहाल ट्रेन की रफ़्तार 160 ही रहेगी.

इस ट्रेन में यात्रियों के मनोरंजन का पूरा ख्याल रखा गया है. विमान की तरह सामने वाली सीट पर स्क्रीन लगी हुई है, जिसमें यात्री टीवी देख सकते हैं. स्क्रीन पर वॉल्यूम कंट्रोल करने के आप्शन भी मौजूद रहेंगे.

तेजस में आपको वाईफाई की सुविधा भी मिलेगी. इतना ही नहीं, जिस तरह विमान में ज़रूरत पड़ने पर बटन दबाकर आप एयर होस्टेस को बुला सकते हैं. वैसे ही यहां बटन दबाने पर अटेंडेंट हाज़िर हो जाएगा.

आमतौर पर यात्रियों की शिकायत होती है कि सीट आरामदायक नहीं हैं, लेकिन तेजस में आप ऐसी शिकायत नहीं कर पाएंगे. क्योंकि इसकी सीट बहुत ज्यादा कंफर्टेबल हैं. आप अपनी सुविधा अनुसार सीट को एडजस्ट कर सकते हैं और इसमें पिलो भी लगा हुआ है.

यह भारतीय रेलवे की पहली ऐसी ट्रेन है, जिसमें मेट्रो की तरह स्लाइडिंग दरवाजे हैं. दरवाजों के कंट्रोल गार्ड के हाथ में होने के चलते, ट्रेन चलने के बाद या रुकने से पहले कोई भी चढ़ या उतर नहीं पाएगा. इससे हादसों को कम करने में भी मदद मिलेगी.

ट्रेन में सीसीटीवी कैमरों के अलावा पैसेंजर इंफार्मेशन सिस्टम भी लगाया गया है. इस सिस्टम की मदद से यात्रियों को यह पता चल सकेगा कि कौनसा स्टेशन आने वाला है. ट्रेन में एलईडी लाइटिंग के अलावा डिजिटल डेस्टिनेशन बोर्ड हैं. तेजस में कम पानी की खपत वाले बायो वैक्यूम टॉयलेट हैं.

Leave a Reply