आखिरी मिनट में मिली HURU को जिंदगी

जबCourtesy: DailMail मौत आंखों के सामने हो तो हम जिंदगी की आस में आखिरी सांस भी दांव पर लगा देते हैं। फोटो में नजर आ रही इस बिल्ली (HURU) ने भी यही किया। जब एक-एक करके उसके साथियों को मारा जाने लगा तो जान बचाने के लिए बिल्ली स्लॉटरहाउस की रैलिंग पर चढ़ गई। हालांकि उसे जिंदगी अपने प्रयासों से नहीं बल्कि कुछ समाजिक कार्यकर्ताओं की बहादुरी से मिली। दरअसल, चीन में हर साल यूलिन डॉग एंड कैट मीट फेस्टिवल मनाया जाता है, इस दौरान सैंकड़ों आवारा या चुराए गए कुत्ते और बिल्ली मारे जाते हैं। ह्यूमन सोसाइटी इंटरनेशनल को खबर मिली थी कि चीन में बड़े पैमाने पर कुत्ते-बिल्लियों को मारने के लिए लाया गया है, इसके आधार पर संगठन की रेस्क्यू टीम ने मौके पर पहुंचकर हूरू और उसके जैसे कई जानवरों को आजाद कराया। सभी जानवरों को छोटे-छोटे पिंजरों में कैद किया गया था। HURU इस वक्त वॉशिंगटन एनिमल रेस्क्यू लीग में सदमे से उभरने की कोशिश कर रही है। आजाद कराए गए सभी जानवर इतने गहरे सदमें थे कि उन्होंने कुछ वक्त तकrescue1 खाने-पानी को छूआ भी नहीं। ह्यूमन सोसाइटी के मुताबिक, चीन में सालाना 10 मिलियन बिल्लियों को खाने के लिए मौत के घाट उतारा जाता है। जबकि यूलिन फेस्टिवल में 10,000 से ज्यादा बिल्लियों की हत्या होती है। ये फेस्टिवल 2010 में पहली बार ग्रीष्म संक्रांति के नाम पर आयोजित किया गया था। तब से हर साल इस मौके पर सैंकड़ों बेजुबानों को कुर्बान किया जाता है। ज्यादातर जानवर आवारा या चोरी के होते हैं, जिन्हें कई दिनों तक भूखा-प्यास रखा जाता है।

Photo Courtesy: DailMail

Leave a Reply