सेना के डिपो में आग साजिश तो नहीं?

महाराष्ट्र के वर्धा में सेना के सबसे बड़े हथियार डिपो में लगी आग में साजिश की बू आ रही है। Army भी इस सवाल का जवाब खोजने में लगी है कि आखिर आग कैसे लगी। अग्निकांड में सेना को दोहरी मार झेलनी पड़ी है। एक तो उसके 18 जवानों की मौत हुई, वहीं fireभारी मात्रा में गोला बारूद भी बर्बाद हो गया। इस डिपो में सभी तरह की सुरक्षा के खास इंतजाम किए जाते हैं। इसके बावजूद आग लगना किसी के गले नहीं उतर रहा है।

  एक अधिकारी ने कहा, “डिपो में आग लगने के परिणामों से सभी वाकिफ हैं, लिहाजा कोई गलती से भी गलती नहीं कर सकता। शॉर्ट सर्किट आदि की वजह से भी आग की संभावना न के बराबर है, क्योंकि यहां हर छोटी बात पर नजर रखी जाती है’। वहीं, रक्षा विशेषज्ञों का भी मानना है कि हादसे के पीछे साजिश हो सकती है। सेना ने जांच के लिए कमेटी गठित है, जो सभी बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए जांच कर रही है। उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए रक्षामंत्री को वर्धा जाने के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि आग में 2 अफसर और डिफेंस सिक्योरिटी कॉर्प्स के 15 जवानों की मौत हुई है। जबकि 17 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
आग सोमवार रात डेढ़ से दो के बीच धमाके के साथ लगी। जो करीब आठ किलोमीटर के दायरे में फैल गई। सेना ने आग पर काबू पाने का दावा किया है। हालांकि डिपो में अब भी रुक रुककर आवाजें का रही हैं। यह डिपो कई एकड़ में फैला हुआ है।

Leave a Reply