इतने क्रूर कैसे हो गए हम?

बीते कुछ वक्त में जो घटनाएं सामने आईं हैं, उसे देखकर यही सवाल मन में उठ रहा है कि आखिर हम इतने क्रूर कैसे बनते जा रहे burnहैं। हैदराबाद में कुछ लड़कों ने कुत्ते के तीन बच्चों को जिंदा जलाकर मौत के घाट उतार दिया। इससे पहले तमिलनाडु में एक मेडिकल स्टूडेंट ने कुत्ते को छत से नीचे फेंक दिया था। थोड़ा और पीछे जाएं तो पुणे में अज्ञात व्यक्ति ने दो कुत्तों पर एसिड फेंककर उन्हें मारने का प्रयास किया था। इसी तरह बेंगलुरू में एक महिला ने 8 पिल्लों को उनकी मां के सामने पटक पटककर मार डाला था। जानवरों के साथ इस तरह की हैवानियत अब आम बनती जा रही है। सबसे ज्यादा चौंकाने और परेशानी करनी वाली बात ये है कि बच्चे भी इस हैवानियत का हिस्सा बनते जा रहे हैं।

बांधा और जला दिया
हैदराबाद के मोशीराबाद इलाके में 17 से 18 साल के लड़कों ने आवारा कुत्ते के तीन बच्चों को पहले पकड़कर काफी दूर तक घसीटा और जूट के थैले में डालकर जिंदा जला दिया। इस पूरी घटना को एक आरोपी ने अपने कैमरे में कैद किया। जिसका वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। वीडियो रौंगटे खड़े करने वाला है। वीडियो में दिखाया गया है कि सभी लड़के हंसते हुए पहले पिल्लों को उठाते हैं और आग के हवाले कर देते हैं।

dogआरोपी अब भी लापता
पुणे में पिछले महीने दो कुत्तों पर एसिड अटैक किया गया था। दोनों की हालत अब भी नाजुक बनी हुई है। इस घटना के खिलाफ पशु प्रेमियों ने विरोधी प्रदर्शन भी किया था, लेकिन पुलिस अब तक आरोपियों की पहचान नहीं कर पाई है। एसिड के चलते कुत्ते बुरी तरह जल गए हैं। उनके शरीर के कई अंग पूरी तरह डैमेज हो चुके हैं। स्थानीय निवासियों ने जब कुत्तों को बुरी अवस्था में देखा तो केशवनगर स्थित ब्लू क्रॉस हॉस्पिटल को इसकी सूचना दी।

pune-dog

पेड़ से लटकाया
कुछ वक्त पहले पुणे में ही कुछ 10 से 12 साल के लड़कों ने एक कुत्ते को बुरी तरह पीटने के बाद उसे पेड़ से लटका दिया था। कोंढवा के इस मामले में पशुप्रेमी प्राची शर्मा ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। आठ महीने के कुत्ते की हड्डियां कई जगह से टूटी थीं। उसका शव करीब तीन दिन तक पेड़ से लटका रहा। प्राची ने जब आसपास लोगों से जानकारी जुटाई तो पता चला कि 10 12 साल के कुछ बच्चों ने कुत्ते को केवल इसलिए मौत के घाट उतार दिया क्योंकि वो उनमें से एक के घर में खाने की तलाश में घुस आया था।

Leave a Reply