मुस्लिम महिलाओं ने भी मनाया करवाचौथ

मुस्लिम महिलाओं ने भी मनाया करवाचौथ

त्यौहार धर्म समाज के बंधन से ऊपर होते हैं। राजस्थान की कुछ मुस्लिम महिलाओं ने करवाचौथ मनाकर यह बात एक बार फिर साबित कर दी है। करवाचौथ हिंदुओं का पर्व है, लेकिन चूरू मिला मुख्यालय की वार्ड संख्या 23 में रहने वाले रियाज परिवार की karvajjदोनों बहुएं अंजुमन और दीप बानों ने अपने शौहरों की लंबी उम्र के लिए व्रत रखा। दोनों ने बुधवार सुबह की शुरुआत करवाचौथ की कथा सुनकर की। इतना ही नहीं हसन रियाज खान ने भी अपनी पत्नी की लंबी उम्र के लिए व्रत रखा। सास रिहाना रियाज बहुएं के इस फैसले से बेहद खुश हैं। वो कहती हैं, यह खुशी की बात है कि अंजुमन और दीप ने मेरे बेटों की दीर्घायु के लिए व्रत रखा। जो दुआएं मैं अपने बेटों के लिए करती हूं उसमें दो हाथ और जुड़ गए।

अच्छाई स्वीकारें
रिहाना कहती हैं, हमें हर धर्म से उसकी अच्छाइयों को स्वीकारना चाहिए। मुझे इसमें कोई बुराई नजर नहीं आती। अंजुमन का कहना है कि अल्लाह और भगवान दोनों एक ही शक्ति हैं, इन्हें हम इंसानों ने बांट दिया है। ये व्रत पति के लिए है और पति तो पति होता है हिंदू या मुसलमान नहीं। अंजुमन की जेठानी ने भी करवाचौथ का व्रत रखा था।

Share:

Related Post

Leave a Reply