इस आइलैंड से कोई जिंदा नहीं आता!

अगर आप इंटरनेट पर नार्थ सेंटिनल आइलैंड (North Sentinel Island) की तस्वीरें देखेंगे तो आपका मन करेगा कि इस खूबसूरत नज़ारे को अपनी आंखों में कैद कर लिया जाए. लेकिन ये आइलैंड जितना खूबसूरत है उससे कहीं ज्यादा खतरनाक भी. यहां जाने का मतलब है मौत को दावत north-sentinel-islandदेना. बंगाल की खाड़ी में स्थित भारत के अधिकार क्षेत्र में आने वाला इस आइलैंड को मौत का आइलैंड कहा जाता है. दरअसल पर नार्थ सेंटिनल आइलैंड पर रहने वाले लोगों का आधुनिक जीवन से कोई लेना देना नहीं है.  सेंटिनल जनजाति के लोगों ने यहां अपनी एक अलग ही दुनिया बसाई हुई है, जिसमें वो दूसरों की दखलंदाजी बर्दाश्त नहीं करते. इसलिए कहा जाता है कि जो लोग इस आइलैंड पर गए उनकी हत्या कर दी गई.

अच्छी रही किस्मत
रिपोर्टों के मुताबिक कुछ लोगों ने इस जनजाति को मुख्यधारा से जोड़ने की कोशिश की और उन तक पहुंचने का प्रयास किया, लेकिन स्थानीय लोगों ने उन्हें मौत के घाट उतार दिया. कई साल पहले एक नाव भटककर इस आइलैंड के करीब पहुंच गई थी, उसमें सवार एक यात्री ने बताया था कि किनारे पर लोग तीर कमान लेकर खड़े थे. अगर वो वहां से निकलने में सफल नहीं होते तो मार दिए जाते.
north-sentinel-island

बोला हमला
2004 में आए भूकंप और सुनामी के बाद सरकार ने इस आइलैंड की खबर लेने के लिए सेना के हेलीकाप्टर भेजा था, लेकिन यहां के लोगों द्वारा उस पर भी हमला बोलने की खबर थी. लोगों की आक्रमकता को देखते हुए भारत सरकार ने भी अब प्रयास करना छोड़ दिया है. सरकार ने इस इलाके को एक्सक्लूसिव जोन घोषित करके यहां बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी है. हवाई तस्वीर से यह साफ़ होता है कि यहां के लोग खेती नहीं करते, इसलिए पूरे इलाके में घने जंगल हैं. यानी सेंटिनल जनजाति पूरी तरह से शिकार पर निर्भर है.

Leave a Reply