Bharat Ratna: प्रधानमंत्री जिन्होंने खुद ही अपना नाम भेज दिया!

भारत रत्न (Bharat Ratna) और उससे जुड़े किस्से तो आपने बहुत सुने होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक प्रधानमंत्री ऐसे भी थे जिन्होंने इस सम्मान के लिए स्वयं ही अपने नाम की सिफारिश की थी. दरअसल यह किस्सा 1955 के दौर का है. जवाहरलाल नेहरु उन दिनों देश के प्रधानमंत्री हुआ करते थे. 15 जुलाई 1955 को नेहरु को भारत रत्न से नवाजा गया था. नियम के अनुसार प्रधानमंत्री हर साल भारत रत्न के लिए राष्ट्रपति के पास कुछ प्रस्ताव भेजते हैं. राष्ट्रपति जिस पर मुहर लगाते हैं उसे भारत रत्न दिया जाता है.

पंडित नेहरु ने इस सम्मान के लिए खुद की राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से अपने नाम की सिफारिश की थी. प्रधानमंत्री रहते हुए नेहरु को भारत रत्न कैसे मिल सकता है, इसे लेकर कई बार सवाल उठाए गए. सूचना के अधिकार के तहत यह बात सामने आई कि राष्ट्रपति डॉ. प्रसाद ने तय किया था नेहरु को भारत रत्न मिलना चाहिए. यानी नेहरु ने खुद अपने नाम की सिफारिश की थी, क्योंकि नियम के अनुसार तो प्रधानमंत्री ही राष्ट्रपति को नाम सुझाते हैं.

Leave a Reply