हर्षा शाह: रेलवे के नाम की जिंदगी

रेलमंत्री ने भी काम को सराहा जून में पुणे और मुंबई के बीच दौड़ने वाली डेक्कन एक्सप्रेस का जन्मदिन मनाया गया. यूं तो हर साल ही इस मौके पर केक काटकर ख़ुशी बयां की जाती है, लेकिन इस बार का…
दम तोड़ रहा था बेजुबान… मिली नई जिंदगी

यूं तो बेजुबानों की मदद के लिए तमाम संस्थाएं मौजूद हैं, लेकिन अक्सर जरूरत के वक्त कोई काम नहीं आता। या तो ऐसी संस्थाएं खुद को अधिकार क्षेत्र की सीमा में बांध लेती हैं, या फिर उनके पास मदद न…
खाली कुर्सियां बयां कर रहीं नोटबंदी का दर्द

नोटबंदी को 4 हफ्तों से ज्यादा का समय गुजर चुका है, लेकिन हालात अब तक पूरी तरह सामान्य नहीं हुए हैं। एटीएम के बाहर लोग अपने पैसे निकालने के लिए लाइन लगाकर खड़े हैं, वहीं बैंककर्मियों का ओवरटाइम भी खत्म…
13 दिनों से नहीं मिली छुट्टी!

एटीएम के बाहर कतार में खड़े लोगों की निगाहें एटीएम में कैश भरने वालों पर टिकी थीं। 100-100 के नोटों की गड्डियों को एक एक करके ट्रे में भरा जा रहा था। आम दिनों में नोट भरने की इस प्रक्रिया…
निजी यात्रा पर लुटाई रेलवे की कमाई!

-शिर्डी, भीमाशंकर दर्शन के लिए स्पेशल कोच लेकर पहुंचे रेलवे बोर्ड चेयरमैन  -सरकारी खर्चों में कटौती की पीएम की पहल का उड़ाया मजाक -दौरे को आधिकारिक नाम देने की कोशिश में जुटा रेलवे. एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकारी…
‘अब हर दावे पर होगा शक’

कांस्टेबल दंपति के झूठ से पुणे पुलिस शर्मिंदा एवरेस्ट फतेह का झूठा दावा करने वाले युगल के चलते पुणे पुलिस को शर्मिंदगी झेलनी पड़ रही है। पुलिस कांस्टेबल दिनेश और तारकेश्वरी राठौड़ के दावे को नेपाल सरकार ने खारिज कर…
अचानक चलने लगी पॉर्न क्लिप, लगा जाम

कर्वे रोड पर कुछ ऐसा हुआ, जिसके चलते महिलाओं को शर्मसार होना पड़ा और मर्दों की आंखें खुली की खुली रह गईं। दरअसल, यहां लगे एक बिलबोर्ड पर अचानक पॉर्न क्लिप चलने लगी। आसपास से गुजरने वाले जिस व्यक्ति की…
मुनाफे के लिए दांव पर यात्रियों की जान!

वर्मा ट्रैवल्स के खिलाफ उपभोक्ता फोरम जाने की तैयारी  दोगुना किराया वसूलने के बाद भी नहीं दी सुविधाएं  खराब बस से कराया यात्रियों को सफर मुनाफा कमाने के चक्कर में निजी बस ऑपरेटर यात्रियों की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रहे…
वाताकुनूलित हॉल में पर्यावरण पर चिंता

पर्यावरण को लेकर बीते दिनों एक संगोष्ठी में शामिल होने का मौका मिला। पुणे को जागरूक लोगों का शहर माना जाता है, इस लिहाज से यहां ऐसे आयोजन होते रहते हैं। इस संगोष्ठी में जानकारों ने अपने-अपने अनुभवों को साझा…
इतने क्रूर कैसे हो गए हम?

बीते कुछ वक्त में जो घटनाएं सामने आईं हैं, उसे देखकर यही सवाल मन में उठ रहा है कि आखिर हम इतने क्रूर कैसे बनते जा रहे हैं। हैदराबाद में कुछ लड़कों ने कुत्ते के तीन बच्चों को जिंदा जलाकर…