1,2500 CCTV will not help to curb traffic menace!

Different Angle by Anuj Ismail, Canada.

With the commencement of 1,250 CCCTV in place to take down the traffic violators in the city of Pune and PCMC, the question is will this make the road safe for the citizens? Merely 35 traffic police officials are watching more than 30 Lakh vehicles plying on road is that sufficient enough to monitor the traffic menace in the city and catch hold of the traffic violator?

Traffic law enforcement has been one of the major hurdles for the city traffic police department for a decade, with the increasing number of driving license issued and new vehicle registration (add how many vehicle and license are registered everyday). With the new e-chalan system wherein the traffic offender is sent a sms along with the picture of the traffic rules been violated.

On an average around 3,000 e-chalan are been issued everyday with the number of repeat offenders since March 2017 traffic police department has served more then 3,13,538 number of e-chalan to repeat offender and the repeat offenders for more than five offence will now be facing court if they do not pay their fine on time.
The most essential this is that the city drivers have to change their attitude toward driving, it has to come from every individual. No one bothers give the right of way to ambulance and fire brigade which are the emergency services. Everyone is in a hurry to reach their respective destination but no one care that the patient in the ambulance is in critical condition and need immediate medical attention.

In Canada every emergency vehicle is given the right of way, commuters stop and gives way to the emergency vehicle like ambulance, fire truck and police cars. Besides introducing the new CCTV and e-chalan someone has to work on the mindset of the commuters. Instead of sending court notice to the repeat traffic offenders, send them a warning letter and suspend the driving license, any offender that has more than three traffic violation offence in 3 months should undergo a refresher course for safe driving.

It is about time that India should implement driver safety rating program with the rating system that will determine how safe the driver is to drive on the road. There has to be a rating system for the number of offence and severity of the offence. City traffic police department along with the Regional Transport office should also introduce driving license fees and vehicle premium (insurance). The number of offence will result in paying more premiums each month.  Driver’s license should be renewed once in 12 months along with the vehicle insurance, this will refrain reckless drivers and force them to drive with caution and force them to obey the law. It is essential that driver should have sense of fear in their mind that someone is watching me I have to drive safe.

Canadian way can reduce traffic problem in India!

Anuj Ismail (Special correspondent Canada)

In order to curb the traffic menace the city of Winnipeg introduced a new app called WAZE, a user friendly app that gives real time traffic information from city’s transportation management center and with the help of Winnipeg drivers who have the app.
trafficThe app gives real time information about traffic snarls, road accident, and route diversion due to accident or bad weather and also tells about gas station and food joints. It is a free two way data exchange where city provides Waze with advance and real time information. In exchange, Waze provides and update city with real time traffic information with the help of commuters who can update the traffic information in the app.

It can be a game changer if India adapts similar kind of app which helps to provide real time information about traffic, it help a great deal to curb the traffic menace in the metropolitan cities. Besides rising population, traffic menace is one of the challenges that the country is facing right now and in days to come this problem will only rise and reaches the next level.

Inhabitants of India who are in Winnipeg, feels that this technology will be a boon for the country and it will help a great deal, however if the citizens do not actively participate then this app will be of no use.

What Indians says

“This app can do wonders only if the citizens work hand in hand with the local administration, daily commuters can send pictures, videos of the traffic menace or even update about traffic snarls, road construction or any road accident which has resulted into traffic back up.” Said Parag Shah, self employed.

Asif Sheikh, working professional claimed, “It is more important to change the mindset of the commuters, the inhabitants of the city will have to take the initiative and work hand in hand with the local administration.  It can be huge success in India only if the citizens participate.”

It’s about time that the young tech savvy generation take over the initiative by providing adequate support to the local administration. Change the mindset and abide by the traffic rule like stopping at the red signal, giving way to the pedestrians etc.

अचानक चलने लगी पॉर्न क्लिप, लगा जाम

कर्वे रोड पर कुछ ऐसा हुआ, जिसके चलते महिलाओं को शर्मसार होना पड़ा और मर्दों की आंखें खुली की खुली रह गईं। दरअसल, pornयहां लगे एक बिलबोर्ड पर अचानक पॉर्न क्लिप चलने लगी। आसपास से गुजरने वाले जिस व्यक्ति की नजर बिलबोर्ड पर गई, वो कुछ देर के लिए वहीं जम गया। यहां तक ट्रैफिक भी जाम हो गया। शुक्रवार को रिमझिम बरसात के बीच कर्वे रोड पर ट्रैफिक धीरे धीरे आगे बढ़ रहा था। तभी सड़क किनारे पर दुकान के बाहर लगे बिलबोर्ड पर पॉर्न फिल्म चलने लगी। कुछ ही देर में ट्रैफिक रुक गया और जाम जैसी स्थिति बन गई। दुकानदार को जैसे ही इस बात की जानकारी मिली उसने तुरंत बिलबोर्ड बंद करवाया। आसपास से गुजरने वाली महिलाओं और युवतियों को पॉर्न क्लिप के चलते शर्मंदगी उठानी पड़ी।

यूनिवर्सिटी रोड पर जाम अब नहीं है आम

रंग लाई Traffic Police की मुहिमः लेन सिस्टम से सुधर रहे हैं हालात…

यूनिवर्सिटी रोड चौराहा पुणे के सबसे व्यस्त्तम चौराहों में से एक है। एक साथ कई मार्ग मिलने के चलते यहां यातायात का बोझ अपेक्षाकृत ज्यादा रहता है। कुछ वक्त पहले तक इस चौराहे पर यातायात जाम जैसे हालात लगभग हर रोज निर्मित होते थे। इसके अलावा एक दूसरे से आगे निकलने की जल्दबाजी में वाहन चालकों में नोंकझोंक भी आम थी, लेकिन अब स्थिति काफी हद तक बदल गई है। ट्रैफिक पुलिस द्वारा शुरू किए गए लेन सिस्टम से वाहन चालक अनुशासन में रहने लगे हैं। नतीजतन बेवजह का जाम और नोंकझोंक के नजारे अब हर रोज नजर नहीं आते। यूनिवर्सिटी से गुजरने वाले औंध, बाणेर और पाषण मार्ग पर लेन सिस्टम लागू किया गया है। इसमें दोपहिया से लेकर बड़े वाहनों तक के लिए अलग लेन निर्धारित है।

pune traffic

सफलता के दो महीने
लेन सिस्टम का खाका चतुःश्रृंगी ट्रैफिक डिविजन के वरिष्ठ निरीक्षक के एस टकावले ने तैयार किया है। प्रायोगिक तौर पर करीब दो महीने पहले इसे औंध यूनिवर्सिटी रोड पर शुरू किया गया और फिर सफलता के बाद बाकी मार्गों पर भी लागू कर दिया गया। पुलिस का दावा है कि सुबह और शाम के वक्त जब सबसे ज्यादा ट्रैफिक होता है, 95 प्रतिशत वाहन चालक लेन सिस्टम का पालन करते हैं। फिलहाल पुलिस लेन विरूद्ध चलने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही। अगर कोई ऐसा करता पाया जाता है, तो उसे केवल समझाइश देकर छोड़ दिया जाता है।

Pune traffic
Print Version: Please click on the image to enlarge…

कैसे आया ख्याल
टकावले कहते हैं, “कुछ वक्त पहले मैं यातायात व्यवस्था का जायजा ले रहा था। उस दौरान मैंने गौर किया कि कई वाहन चालक Traffic PIआगे निकलने की जल्दबाजी में दूसरों के लिए परेशानियां खड़ी कर देते हैं। इसमें सबसे ज्यादा तादाद दोपहिया चालकों की होती है। इसे ध्यान में रखते हुए मैंने लेन सिस्टम अमल में लाने का फैसला लिया। इसके लिए यूनिवर्सिटी रोड पर हमने मनपा के सहयोग फुटपाथ थोड़ा छोटा करके दोपहिया के लिए लेन बनाई। प्रयोग सफल होने के बाद यहां से गुजरने वाले बाकी मार्गों पर भी इसे लागू किया गया। लेन सिस्टम के चलते यातायात काफी व्यवस्थित हो गया है”।

क्या कहते हैं लोग

फायदा तो हुआ है
बैंककर्मी सुरेखा कुमार को रोजाना यूनिवर्सिटी रोड से गुजरना पड़ता है। वो मानती हैं कि लेन सिस्टम से फायदा हुआ है। सुरेखा कहती हैं, “सुबह के वक्त हर किसी को दफ्तर पहुंचने की जल्दी होती है। पहले यूनिवर्सिटी रोड के हाल यह थे कि जिसे जहां जगह मिलती, वो वहां वाहन अड़ा देता था। इस वजह से स्थिति और बिगड़ जाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अलग लेन होने के कारण वाहन चालक जल्दबाजी नहीं दिखाते। पहले की तुलना में यहां ट्रैफिक व्यवस्थित हुआ है”।

हादसों की आशंका कम
प्राइवेट कर्मचारी ऋषा कहती हैं, “लेन सिस्टम से वाहन चालकों में अनुशासन आया है। वरना पहले तो यहां काफी बुरे हाल थे। कुछ वक्त पहले एक कार ड्राइवर की जल्दबाजी में मेरा एक्सीडेंट होते-होते बचा था। वाहनों की अलग लेन होने से हादसों की आशंका तो कम हुई ही है, साथ ही यातायात भी व्यवस्थित हुआ है”।

सावधान! कैमरे देख रहे हैं
अगर आप यातायात नियमों की अनदेखी करने के आदी हैं, तो अपनी आदत बदल लीजिए, क्योंकि पुलिस आप पर सीसीटीवी कैमरों से नजर रख रही है। वाहन चालकों को अनुशासन का पाठ पढ़ाने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने कैमरों के जरिए कार्रवाई करना शुरू कर दिया है। नियमों का उल्लंघन करने वालों को अब पुलिस किसी भी कीमत पर बख्शने वाली नहीं है। शहर के कई मुख्य चौहरों पर सीसीटीवी वाहन चालकों की गतिविध पर नजर रख रहे हैं।