यूनिवर्सिटी रोड पर जाम अब नहीं है आम

रंग लाई Traffic Police की मुहिमः लेन सिस्टम से सुधर रहे हैं हालात…

यूनिवर्सिटी रोड चौराहा पुणे के सबसे व्यस्त्तम चौराहों में से एक है। एक साथ कई मार्ग मिलने के चलते यहां यातायात का बोझ अपेक्षाकृत ज्यादा रहता है। कुछ वक्त पहले तक इस चौराहे पर यातायात जाम जैसे हालात लगभग हर रोज निर्मित होते थे। इसके अलावा एक दूसरे से आगे निकलने की जल्दबाजी में वाहन चालकों में नोंकझोंक भी आम थी, लेकिन अब स्थिति काफी हद तक बदल गई है। ट्रैफिक पुलिस द्वारा शुरू किए गए लेन सिस्टम से वाहन चालक अनुशासन में रहने लगे हैं। नतीजतन बेवजह का जाम और नोंकझोंक के नजारे अब हर रोज नजर नहीं आते। यूनिवर्सिटी से गुजरने वाले औंध, बाणेर और पाषण मार्ग पर लेन सिस्टम लागू किया गया है। इसमें दोपहिया से लेकर बड़े वाहनों तक के लिए अलग लेन निर्धारित है।

pune traffic

सफलता के दो महीने
लेन सिस्टम का खाका चतुःश्रृंगी ट्रैफिक डिविजन के वरिष्ठ निरीक्षक के एस टकावले ने तैयार किया है। प्रायोगिक तौर पर करीब दो महीने पहले इसे औंध यूनिवर्सिटी रोड पर शुरू किया गया और फिर सफलता के बाद बाकी मार्गों पर भी लागू कर दिया गया। पुलिस का दावा है कि सुबह और शाम के वक्त जब सबसे ज्यादा ट्रैफिक होता है, 95 प्रतिशत वाहन चालक लेन सिस्टम का पालन करते हैं। फिलहाल पुलिस लेन विरूद्ध चलने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही। अगर कोई ऐसा करता पाया जाता है, तो उसे केवल समझाइश देकर छोड़ दिया जाता है।

Pune traffic
Print Version: Please click on the image to enlarge…

कैसे आया ख्याल
टकावले कहते हैं, “कुछ वक्त पहले मैं यातायात व्यवस्था का जायजा ले रहा था। उस दौरान मैंने गौर किया कि कई वाहन चालक Traffic PIआगे निकलने की जल्दबाजी में दूसरों के लिए परेशानियां खड़ी कर देते हैं। इसमें सबसे ज्यादा तादाद दोपहिया चालकों की होती है। इसे ध्यान में रखते हुए मैंने लेन सिस्टम अमल में लाने का फैसला लिया। इसके लिए यूनिवर्सिटी रोड पर हमने मनपा के सहयोग फुटपाथ थोड़ा छोटा करके दोपहिया के लिए लेन बनाई। प्रयोग सफल होने के बाद यहां से गुजरने वाले बाकी मार्गों पर भी इसे लागू किया गया। लेन सिस्टम के चलते यातायात काफी व्यवस्थित हो गया है”।

क्या कहते हैं लोग

फायदा तो हुआ है
बैंककर्मी सुरेखा कुमार को रोजाना यूनिवर्सिटी रोड से गुजरना पड़ता है। वो मानती हैं कि लेन सिस्टम से फायदा हुआ है। सुरेखा कहती हैं, “सुबह के वक्त हर किसी को दफ्तर पहुंचने की जल्दी होती है। पहले यूनिवर्सिटी रोड के हाल यह थे कि जिसे जहां जगह मिलती, वो वहां वाहन अड़ा देता था। इस वजह से स्थिति और बिगड़ जाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अलग लेन होने के कारण वाहन चालक जल्दबाजी नहीं दिखाते। पहले की तुलना में यहां ट्रैफिक व्यवस्थित हुआ है”।

हादसों की आशंका कम
प्राइवेट कर्मचारी ऋषा कहती हैं, “लेन सिस्टम से वाहन चालकों में अनुशासन आया है। वरना पहले तो यहां काफी बुरे हाल थे। कुछ वक्त पहले एक कार ड्राइवर की जल्दबाजी में मेरा एक्सीडेंट होते-होते बचा था। वाहनों की अलग लेन होने से हादसों की आशंका तो कम हुई ही है, साथ ही यातायात भी व्यवस्थित हुआ है”।

सावधान! कैमरे देख रहे हैं
अगर आप यातायात नियमों की अनदेखी करने के आदी हैं, तो अपनी आदत बदल लीजिए, क्योंकि पुलिस आप पर सीसीटीवी कैमरों से नजर रख रही है। वाहन चालकों को अनुशासन का पाठ पढ़ाने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने कैमरों के जरिए कार्रवाई करना शुरू कर दिया है। नियमों का उल्लंघन करने वालों को अब पुलिस किसी भी कीमत पर बख्शने वाली नहीं है। शहर के कई मुख्य चौहरों पर सीसीटीवी वाहन चालकों की गतिविध पर नजर रख रहे हैं।

Leave a Reply