हिंदू होने के बावजूद क्यों दफनाई गईं अम्मा?

हिंदू धर्म में मृत्यु के बाद शव का दाह संस्कार किया जाता है, लेकिन जयललिता को दफनाया गया, ऐसा क्यों? यह सवाल हर किसी के मन में उठ रहा है। दरअसल, एक खास वजह के चलते ऐसा किया गया। इसका इस बात से कोई लेना देना नहीं है कि jaya...photo: TOIएमजीआर को भी दफनाया गया था। मद्रास विश्वविद्यालय के रिटायर्ड प्रोफेसर वी अरासू के मुताबिक, जयललिता द्रविड़ आंदोलन से ताल्लुक रखती थीं। जो हिंदू धर्म की किसी भी रस्म को नहीं मानता। फिल्मी दुनिया से निकलकर जया द्रविड़ पार्टी की प्रमुख बनीं, जिसकी नींव ब्राह्मणवाद के विरोध के लिए पड़ी थीं। इस आंदोलन से जुड़े नेता अपने नाम के आगे जाति नाम भी नहीं लगाते थे।

राजनीतिक फायदा?
जयललिता को उनके गुरु एमजीआर के बगल में ही दफनाया गया है। यहां द्रविड़ आंदोलन के नेता और डीएमके के संस्थापक अन्नादुरै की भी कब्र है। कुछ लोगों का मानना है कि राजनीतिक कारणों के चलते जयललिता को दफनाया गया। एआईएडीएमके एमजीआर की तरह जया की राजनीतिक विरासत को सहेजना चाहती है।

Leave a Reply