किसी को छूने पर क्यों लगता है झटका?

Boost your Knowledge….

कई बार ऐसा होता है कि किसी को छूने पर झटका लगता है. कभी यह झटका हल्का होता है, तो कभी इतना तेज़ कि आप काफी देर तक अपना हाथ पकड़े घूमते रहते हैं. क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर ऐसा क्यों होता है? आइए हम आपको आज बता ही देते हैं:

साइंस में आपने शायद पढ़ा ही होगा कि हर चीज़ एटम्स से बनी है. आंखों से न दिखने वाले यह एटम्स पॉजिटिव, नेगेटिव और न्यूट्रल इस तरह तीन प्रकार के होते हैं, यानी इलेक्ट्रान, प्रोटॉन और न्यूेट्रान. किसी भी चीज़ में मौजूद इलेक्ट्रान और प्रोटॉन की मात्रा जब बराबर होती है, तो यह सामान्य रहते हैं. लेकिन जब इसमें अंतर आता है तो इलेक्ट्रान तेज़ी से घूमने लगते हैं और इससे स्टैहटिक डिस्चालर्ज पैदा होता है.

जब किसी चीज़ में इलेक्ट्रान की मात्रा अधिक होती है, तो उसमें नेगेटिव चार्ज पैदा होने लगता है. जैसे कि कोई पॉजिटिव चार्ज की वस्तु या इंसान इनके संपर्क में आता है, ये इलेक्ट्रान बहुत तेज़ी से उसकी ओर प्रवाहित होते हैं. यही तेज़ प्रवाह झटकों का कारण बनता है.

आपको बता दें कि इलेक्ट्रान का बढ़ना या घटना मौसम पर निर्भर करता है. नमी ज्यादा होने पर इलेक्ट्रान की मात्रा नॉर्मल रहती है. इसके विपरीत सर्दियों या सूखे मौसम में इनमें बढ़ोत्तरी होती है, क्योंकि हवा में नमी बहुत कम होती है. इसलिए नेगेटिव चार्ज पैदा होने से झटके लगते हैं. यानी सर्दियों में झटके लगने की संभावना ज्यादा रहती है.

Leave a Reply